हिन्दीसंपादित करें

प्रकाशितकोशों से अर्थसंपादित करें

शब्दसागरसंपादित करें

व्यंग्यरूपक संज्ञा पुं॰ [सं॰ व्यङ्गयरूपक] वह रूपक जिसमें अप्रस्तुत योजना व्यक्त न होकर प्रच्छन्न हो । प्रच्छन्न रूपक । उ॰— काव्य के वर्तमान समीक्षकों की द्दष्टि में दबी हुई या प्रच्छन्न अप्रस्तुत योजना, जिसे हमारे यहाँ व्यंग्यरूपक कहेंगे, बहुत उत्कृष्ट मानी जाती है ।—चिंतामणि, भा॰ २, पृ॰ २२३ ।