हिन्दीसंपादित करें

प्रकाशितकोशों से अर्थसंपादित करें

शब्दसागरसंपादित करें

गोम संज्ञा स्त्री॰ [देश॰]

१. घोड़ों की एक भँवरी जो नाभि से ऊपर छाती की ओर रहती है । इसे लोग बहुत खराब समझते हैं ।

२. पृथ्वी । धरती । (डिं॰) ।