हिन्दीसंपादित करें

प्रकाशितकोशों से अर्थसंपादित करें

शब्दसागरसंपादित करें

आवश्यकता संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. जरूरत । अपेक्षा ।

२. प्रयोजन । मतलब । उ॰— अपनी आवश्यकता का अनुचर बन गया, रे मनुष्य तू कितना नीचे गिर गया । — करूणा॰, पृ॰ २६ ।